ग्रहण योग बनने के कारण और इसका समाधान

ग्रहण योग

कुंडली के किसी भी भाव में चंद्र के साथ राहु या केतु बैठे हों तो ग्रहण योग बनता है। यदि इन ग्रह स्थिति में सूर्य भी जुड़ जाए तो व्यक्ति की मानसिक स्थिति अत्यंत खराब रहती है। उसका मस्तिष्क स्थिर नहीं रहता। कार्य में बार-बार बदलाव होता है। बार-बार नौकरी और शहर बदलना पड़ता है। कई बार देखा गया है कि ऐसे व्यक्ति को पागलपन के दौरे तक पड़ सकते हैं।

ग्रहण योग के समाधान

ग्रहण योग का प्रभाव कम करने के लिए सूर्य और चंद्र की आराधना लाभ देती है। आदित्यहृदय स्तोत्र का नियमित पाठ करें। सूर्य को जल चढ़ाएं। शुक्ल पक्ष के चंद्रमा के नियमित दर्शन करें।

 

और अधिक जानकारी पाना चाहते हैं इसके समाधान के लिए संपर्क करें आचार्य विनोद जी से यहाँ दिए गए टेलीफोन नंबर पर कॉल करें या हमारी वेबसाइट पर लाइव चैट करें |

011-49122122 / +919820757741 / +919958633529/+91 9820757741

ग्रहण योग बनने के कारण और इसका समाधान

You May Also Like